Moral stories in hindi :काटना छोड़ो डरना नही : hindi story for kids

moral story in hindi.

इस hindi story for kids me हम आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहे है जिसमे किसी एक जीव के छोटे बदलाव ने उसे मौत के मुह में डाल दिया ।
अक्सर जब हम अपनी किसी आदत की छोड़ देते है तो लोग हमें बेबकूफ ओर मूर्ख समझने लग जाते है । 


Moral stories in hindi ,hindi stories

इस moral story in hindi में हम आपको ऐसे ही नाग की कहानियां बताने वाले है जिसमे नाग की एक आदत छोड़ देने से वो मौत के सामने चला गया ।

 Moral stories in hindi काटना छोड़ो   डरना नही : hindi story for kids 

एक जंगल में एक नाग रहता था उसका  डर पूरे गांव में  था सभी उसकी  नाम सुन कर भी डर जाते थे ।

लोग उस जंगल मे जाने आए पहले 100बारसोचते थे ।
क्यो की वो नाग जब भी किसी को देखता तो उसे काटने को दौड़ जाता , इसी वजह से लोग उस जंगल की ओर जाते भी नही थे ।

एक बार उस गांव  में भगवान गौतम बुद्ध आये , ओर जब उन्हें यह बात पता चली तो वह इस बात का समाधान करने जंगल मे चले गये ।

वहां जब नाग ने उन्हें डसने की कोशिस की तो उन्होंने प्यार से  नाग को देख , जब नाग ने देखा कि  यह डर नही रहे है तो , उसने पूछा आप कोन है और यहां क्यो आये हो ।

तब भगवान गौतम बुद्ध ने कहा कि में गौतम बुद्ध हूं  और में यहां अपना एक विचार रखने आया हूँ ।

तो नाग बोलै बताये में क्या कर सकता हूँ तो गौतम बुद्ध नेकहा की तुम लोगो को काटना छोड़ दो , वो लोग तुम्हारी वजह से  डर रहे है और जंगल मे नही आते ।


नाग उनकी बात मान गया और उसने लोगो को डसना छोड़ दिया ।

कुछ महीनों बाद  लोगों ने नाग से डरना छोड़ दिया ।

फिर एकदिन जंगल मे लोगो को नाग नजर आया, उन्होंने उसपर पत्थर मारने शुरू कर दिए । नाग भाग कर झाड़ियो में छिप गया ।



लोग उसपर तब भी पत्थरमार रहे थे ।
उसी समय वहां पर भगवान गौतम बुद्ध आये । उन्होने लोगो को रोका ।

भगवान गौतम बुद्ध नाग के सामने गए , नाग ने उनसे पूछा कि भगवान मेने आपका कहा माना और मुझे ये दिन देखना पड़ गया ।

तब भगवान ने बोला ,मेने तुम्हें डसने को मना किया था , डराने को नही ।

यदि तुम डरना छोड़ दोगे तो लोग तुम्हें मार डालेंगे । तुम अपने उतना डर बनाये रखो  जिससे तुम बिन तकलीफ़ के जी सको ।

नाग समझ गया ।

अगले दिन जब लोग आए उनसे लोगो को डरा दिया जिससे उसपर किसी की हमला करने की हिम्मत नही हुई ।


Hindi moral story- moral- conclusion moral of this story


हमे अपना किसी आदत को इतना नही छोडनाचाहिये की लोग हमे बेबकूफ समझने   लगे और , हमारा बुरा कर डाले ।

अपनी आदत को इतना अपना लो बस जितने में आप आसानी से जिन्दगी जी सके ।
नाग ने डरना छोड़ा तो बात उसकी जान पर आ बनी ।


दोस्तो यदि आपको मेरी कहानी पसंद आई हो तो लाइक ओर शेअर जरूर करे । 


ओर कहानी पढ़ने के लिए हमारे साथ बने रहे ।
हुम् आपके लिए ओर भी मनोरंजन भरी कहानी लेकर जल्द आएंगे । 
 Read also 

Post a Comment

0 Comments