kahaniya -moral story in hindi : जैसा करोगे वैसे पाओगें

 kahaniya -moral story in hindi

यह new hindi stories में आज हम बात कर रहे है जैसा करोगे वैसे पाओगे । इस kahani में एक इंसान अपनी जलन के कारण स्वयं को नुकसान कर देता है ।
हम हमेसा मोरल वाली kahaniya लिखते है , मुझे उम्मीद है कि आपको यह कहानी पसंद आएगी ।


Moral stories , short stories for kids , moral stories in hindi , hindi story , story


Kahaniya-moral stories in hindi- जैसा करोगे तो वैसा पाओगें।


इस कहानी के नाम से ही आप समझ गए होंगे कि इस कहनी का moral क्या है । तो चलिए कहानी शुरू करते है ।

शम्बू एक गावँ का किसान था , वो बहुत कम मेहनती था , ओर सभी को पता है यदि किसान मेहनत नही करेगा तो उसकी फसल खराब हो जाएगी ।

अब बाद शम्बू का भी यही काम था उसकी आधी से ज्यादा फसल खराब हो जाती थी ।
कभी वह उनमे पानी नही डालता , कभी उसमे देर से कीटनाशक का प्रयोग करता जिससे उसकी फसल का कुछ भाग खराब हो जाता ।
उसी के खेत के बगल वाला खेत रामु का था 


रामु बहुत मेहनत करता था दिन रात खेतो में पड़ा रहता , इसी वजह से रामु को फसल बहुत बढ़िया होती ।

सामने खेत होने की वजह से शम्बू रामु को देख कर जलता था ।
ओर बस के चाहता था कि इसी फसल बर्वाद हो जाये ।

वह उसकी फसल  को बराबर करने के हर कोशिश करता पर नाकाम हो जाता ।



फसल काटने का समय था ,शम्बू को एक तरकीब सूझी ।
शम्बू ने अपनी कुछ फसल काट दी और जो खराब हो गई थी , इसे रामु के खेत की तरफ लगा दिया ।
अब जब रामु घर गया तो शम्बू ने फसल में आग लगा दी , ओर घर चला गया ।

जब सुबह को आया हो शम्बू की अपनी सारी फसल जाली थी परंतु रामु की नही ।
वह हैरान हो गया कि इस  हुए ।
परंतु रामु ने खेत मे पानी डाल था जिससे उसे फसल गीली थी और आग नही लगी ।

शम्बू अपना नुकसान कर बैठा ।
पर उसने अभी हार नही मानी थी । वह सब कुछ कर गुजरने को तैयार था  ।
शम्बू ईर्ष्या में इतना अंधा हो गया कि उसने रामु को मारने का फैसला किया।


बरसात का समय आय  खेतो  में पानी भर रहा था , इस बार शम्बू को एक ओर तरकीब सूझी । शम्बू ने खेत के रास्ते मे एक गड्ढा के दिया जिसमें  कीचड़ हो गया ।और बारिश की वजह से वह पानी से भर गया ।

अब रामु के आने का ििइंतजार था , अब शम्बू घर चला गया , दूसरे दिन अपनी समय के हिसाब से , शम्बू  बारिश में ही खेतो में चला गया ।
कोई नही दिख रहा था , यह पता भी नही चल रहा था कि गड्ढा कहा है ।


अब आगे क्या था जैसे गई शम्बू आगे बढ़ा अपने ही गड्ढे में डूब गया कीचड़ की वजह से ओर अंदर घुस गया ।
अब कुछ देर बाद तड़प कर उसकी मौत हो गई ।


 दूसरे दिन जब बारिश बन्द हुई तो रामु खेत मे गया , वहां गड्ढा देख कर वो चकित था ।

फिर वह अपने खेतों को देखने लगा , शम्बू की पत्नी भी उसे ढूंढने लगी और खेतों में गई ।
वह भी गड्ढा देख कर डर गई ।

पर जब उसने ढ़ंग से देखा तो वहां कीचड़ में एक हाथ दिखा वह डर गई उसने जल्दी रामु को बुलाया , रामु में उस हाथ को  बाहर खींच दिया तो कीचड़ से शम्बू बहार आया , उसकी पत्नी रोने लगी । पर शम्बू मर चुका था ।

Kahaniya-moral stories in hindi - end

इस कहानी का मोरल है कि जो किसी ओर के लिए गड्ढा खोदता है वो खुद उसमे गिर जाता है ।और इसम उदहारण शम्बू है ।
उसने रामु के लिए गड्ढा किया और खुद उसमे डूब कर मर गया ,
 इसे ही जैसे करनी वैसे भरनी कहते है ।
इसका अर्थ है आज जैसा करोगे वैसा ही पाओगे ।


मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी यह कहानी पसंद आयी होगी ,अगर कहानी पसंद आये तो लाइक ओर शेअर जरूर करे ।
ओर यदि आप अपने मोरल के पसंद की कोई moral story in hindi , या hindi kahaniya पढना चाहते है तो आप अपने मोरल को कमेंट में बताए । हम आपकी पसंद की कहानी को जरूर लिखेंगें ।


Post a Comment

0 Comments