Moral stories in hindi hindi ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है

Moral stories in hindi

यह  बेस्ट न्यू मोरल स्टोरीज है  एक ईमानदार लड़के कि जिसने अपनी ईमानदारी नहीं छोड़ी और अपनी ईमानदारी से चोरी के विचारो को भी बदल दिया ।
Moral stories in hindi , न्यू स्टोरी ,  कहानियां


यह मोरल स्टोरीज इंन हिंदी में एक लड़के कि ईमानदारी से प्रभावित होकर  चोरों ने चोरी छोड़ कर मजदूरी करने का निर्णय लिया ।

Moral stories in hindi : ईमानदारी ही सबसे अच्छी नीति है ।

एक गांव में एक ईमानदार लड़का राकेश रहता था , राकेश की मां ने है बचपन से उसका भरण पोषण किया था ।
राकेश के पिता जी की बचपन में ही मौत हो गई थी ।


अब राकेश बड़ा हो गया था तो वह अपनी मा के साथ घर के खर्चे के लिए हाथ बटाना चाहता था ।
राकेश ने मजदूरी करने का फैसला किया वह अभी छोटी ही उम्र का था , पर वह मजदूरी करता था। 

एक दिन दूसरे गांव में मेला लग गया । राकेश के दोस्त कहने लगे कि हम सब मेले में  चलेंगे ।

पर राकेश ने मना कर दिया ।
 अब राकेश के दोस्तो ने राकेश कि मा को कहा तो  , राकेश अपनी मा के कहने पर मेले मी चला गया ।

मेले ने दूसरे गांव में लगना था , और गांव भी बहुत दूर था , इसी वजह से वह जल्दी सुबह को चले गए ।
दूर चलकर वह थक गए , राकेश और उसके चार दोस्तो ने पेड़ की छाया में आराम करने की सोची ।

वह सभी आराम के रहे थे तभी वहां लुटेरे आ गए ।
अब उन सभी को मारने कि धमकी देने लगे ।

अब लुटेरे ने कहा कि तुम अपना धन मुझे दे दो नहीं तो में तुम सभी को मार दूंगा ।
उन्होंने सभी की तलाशी लेने शुरी की , राकेश के पास से उन्हें कुछ नहीं मिला। 

अब उन्हें राकेश पर शक हुआ तो उन्होंने राकेश की कमीज़ निकल कर झड़ी पर रुपए नहीं मिले ।

अब लुटेरे ने कहा कि तुम मेले मी बिना धन ले जाए हुए क्यों  जा रहे हो ।
तुम्हारे पास कुछ नहीं मिला। 

अब राकेश ने ईमानदारी से खा नहीं जनाब मेरे कमीज़ की जेब में रुपए है । 
सभी हसने लगे ।
 पर लुटेरे के सरदार  ने कहा कि जब तुम्हारे पास कुछ नहीं मिला तो तुम कह सकते थे कि  नहीं है धन । 

पर तुमने मुझे क्यों बता दिया , अब राकेश बोला , जनाब मेरी मां कहत
 है कि मुंह का निवाला कोई नहीं छीन सकता , और दाने दाने पर लिखा है कहने वाले का नाम , मेरी मां कहती है कि ईमानदारी ही सबसे अच्छी नीति है इसी लिए में आपको ईमानदारी से बता दिया ।
सरदार खुश हो गया , वह बहुत प्रभावित हुआ । उसने सभी का धन वापिस कर दिया , और कहा कि में भी अब्ज ईमानदारी से रहूंगा और चोरी चकारी छोड़ दूंगा ।
 

Moral Stories in hini : moral of this story 

इस कहानी का मोरल है कि हम ईमानदार चाहिए । ईमानदारी ही सबसे कहीं नीति है ।
दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम ।

मुझे उम्मीद है कि आपको यह खनी पसंद थी होगी कहानी को लाइक और शेयर जरुर करे ।
और अधिक मोरल की कहानी पढ़ने के लिए ब्लॉग को visit करते रहे ।

Read also 


Post a Comment

0 Comments