Story | Love story hindi | Breakup Dairy | allstory

 Story - Breakup story in hindi  ब्रेकअप का नाम सुनकर सभी सच्चा प्यार करने वालो कि रूह कांप उठती है । परंतु पता नहीं क्यों प्यार भारी इस दुनिया में भगवान ने ब्रेकअप नाम की चीज बना दी । आप यकीन नहीं  मानेंगे कि कभी कभी किसी इंसान के लिए ब्रेकअप के सदमे से बाहर निकलना कितना मुश्किल होता है । ओर यदि वह कोई लड़का हो तो स्थिति ओर भी बिगड़ जाती है । मै खुद एक लड़का हूं ओर मुझे पता है कि ब्रेकअप से बाहर निकलना हम लड़को के लिए कितना मुश्किल होता है । मै नहीं जानता कि  सभी लड़को के लिए होता है या नहीं परंतु मेरे लिए ब्रेकअप से बाहर निकलना बहुत ही मुश्किल हो गया था । आखिर मेरे प्यार आठ साल पुराना था , तो आप सोच ही सकते हो कि केसे मै इस गम से उभर पाया हूं।  The Breakup Dairy - breakup story in hindi  मेरे प्यार की कहानी की कहानी को आठ साल हो चुके थे , हम दोनों ने बहुत सारे सपने बुन लिए थे कि हम दोनों जिंदगी भर एक दूसरे के साथ रहेंगे ओर अब हमारी शादी का प्लान था । परंतु यह ब्रेकअप नाम का साया मेरे रिलेशनशिप को ले डूबा । मैने कभी ब्रेकअप के बारे में नहीं सोचा था ओर ना ही कभी सोचूंगा ओर अब

Love story : हमारी अधूरी कहानी : new story

Hindi story 


प्यार की कहानी  कभी पूरी नहीं होती और यह कहानी भी कुछ इसी ही है । जो पूरी नहीं हुई ।
Love story , pyar ki ek kahani


हमारी अधूरी कहानी - यह love story पूरी नहीं हुई , क्योंकि  हर जगह प्यार के दुश्मन बैठे है ।
इस pyar ki ek kahani में हम एक love story की बात कर रहे है जिसमें प्यार करने वाले मिल ना सके ।

उनका प्यार कही दब कर मर गया ,  उनका प्यार पूरा ना होने में भी दुनिया का ही हाथ था , दुनिया प्यार से और प्यार करने वालो  से जलती है ।

अब चलिए प्यार की एक कहानी की शुरवात करते है ।

यह एक मोरल स्टोरी भी है क्योंकी इससे प्यार का गलत इस्तेमाल  करने वालों को भी सीख मिलती है ।

New love story in hindi : अधूरी कहानी

राकेश एक बहुत ही मेहनती लड़का है , वह अपने घर का एक मात्र सहारा था , वह किसान था इसी लिए वह इतना धनी नहीं था कि कुछ  मंहगी शान शौकत कर सके ।

राकेश के गाव के सभी लोग राकेश को बहुत पसंद करते थे , और वह उससे बहुत प्रभावित भी थे ।

सभी लोग राकेश का कहा भी मानते थे ,और वह पढ़ा लिखा भी था , इसी लिए खेती में कोई उसका मुकाबला नहीं कर सकता था ।
वह जिस भी चीज की खेती करता था , उसमे उसका बहुत मुनाफा होता था ।
इसी वजह से गांव के सभी पुराने किसान भी राकेश से सलाह लेते ।

राकेश  का व्यवहार बहुत अच्छा भी था , वह लोगो की बहुत चिंता करता था । इसी वजह से उसे उसके सामने के गांव की  एक लड़की   उसे पसंद करने लगी थी ।

इसका पीछे भी एक कहानी है ।

एक बार बरसात का समय था , बहुत तेज बारिश हो रही थी नदी में बाढ आ गई थी ।
किसानों के खेत डूब गए थे । खेत में गए एक किसान खेत में फस गया । अब बाढ किसी भी समय उसके खेत में आकर उसे बहा सकती थी ।
सभी लोग बाढ को देख कर डर रहे थे , और उस किसान की कोई मदद नहीं कर रहा था । 

अब राकेश को  उस किसान की मदद करने का जनुन्न सवार हो गया और वह किसी भी हालत में किसान की जान बचाना चाहता था ।
उसने अब नदी पार करने की तरकीब निकली वह एक मजबूत और लंबी रस्सी लेकर आया और अपने , रस्सी का एक छोर अपने कमर में बांध दिया , और दूसरा  छोर पेड़ पर बांध ।

अब वह नदी के किनारे से ऊपर की तरफ गया ,  और यहां से नदी में गोता लगा दिया सभी लोग डर गए , लोगो को भय हो गया कि ,कहीं राकेश ही ना डूब जाए ।
 अब राकेश दिख नहीं रहा था , पर थोड़ी देर में वह तैरकर दूरी तरफ निकल गया ।

सभी की जान में जान आ गई ।
यह सब काम अब पास के गांव की सोनम देख रही थी । और इसी बहादुरी को देख कर वह राकेश से प्यार कर बैठी ।

राकेश ने किसान के पास जाकर उसके भी कमर में रस्सी बंधी , और फिर से नदी की किनारे से ऊपर की तरफ को गोता मार गया ,अब दूसरी तरफ से लोगो ने रस्सी खींचना शुरू कर दिया ।

देखते ही देखते राकेश किसान को लेकर दूसरी तरफ ले आया , खेत डूब गया , से सभी अपने घर चले गए ।

राकेश उस गाव का हीरो बन गया था ।

अब सोनम को राकेश से प्रेम हो गया था , तो वह अब राकेश से मिलने के बहाने ढूंढ ने लग गई ।

राकेश अभी सोनम से प्रेम नहीं करता था इसी लिए वह सोनम को  बाते नहीं करता था ।

सोनम गांव के जमींदार की बेटी थी , उसके पिताजी का भी पूरे गांव में दबदबा था ।

सोनम राकेश को रोज मिलने लग गई राकेश से  रोज बाते करने लग गई राकेश को भी धीरे धीरे सोनम से प्रेम हो गया ।

अब गांव के कुछ लोगो की सोनम और राकेश का मिलना रस नहीं आया उन्होंने जमींदार को शिकायत के दी ।

सोनम का घर से बहार निकलना बन्द के दिया गया । परंतु प्यार के पंछी को कोन्न रोक सकता था ।

वह तब भी राकेश से मिलने जाती । इसी बात पर जमींदार सोनम को बहुत मारता ।

मारपीट के छाप सोनम पर भी दिखते थे ।
परंतु राकेश के सोनम को प्यार करना उसके घाव प्र मरहम लगाना सोनम को पूरा दर्द दूर कर देता ।

सोनम ने अपने पिताजी से कहा में राकेश से प्रेम करती हूं । और अब में उससे शादी करना चाहती हूं ।

परंतु जमींदार की बेटी किसान के साथ इस बात को सोच के उसे अपनी इज्जत की चिंता होने लग गई ।

जमींदार ने दूसरे दिन राकेश को घर पर बुलया और  उसे बोला की तुम एक किसान हो और में जमींदार तुम मेरी बेटी के लायक नहीं हो , मेरी बेटी को भूल जाओ वरना अपनी जान से हाथ धो बैठोगे ।

पर अब राकेश कहा मानने वाला थ , वह जमींदार से दुश्मनी मोलने को तैयार था ।

उसने जमींदार के मुंह के सामने साफ साफ कह दिया कि में  सोनम को बहुत प्यार करता हूं और में उसके लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार हूं ।

अब जमींदार को बहुत गुस्सा आया , जमींदार ने अपने लोगो को बुलाया और राकेश को डंडों से खूब पिटवाया , और बाद में गांव के बाहर फिंकवा दिया ।
राकेश के गांव वाले उसी मदद करना चाहते थे परंतु जमींदार से कोई दुश्मनी नहीं मोलना चाहता था । इस वजह से किसी ने उसकी मदद नहीं की ।

सोनम घर से भाग आई और राकेश के घर आ गई , जब राकेश ने सोनम को देखा तो वह डर गया उसने बोला कि तुम यहां , तुम्हारे पिताजी हमें मार डालेंगे ।

पर अब सोनम ने राकेश को अपनी बाहों में ले लिया , और राकेश का माथा चूमा और कहा में तुम्हारे लिए मारने को भी तैयार हूं ।

राकेश की मा यह सब देख रही थी , राकेश की मा ने कहा बेटा तुम इसे लेकर गांव से दूर चले जाओ ।

नहीं तो जमींदार तुम दोनों को मार डालेगा ।

राकेश ने अपनी मा को गले लगाया और घर से भाग गया ।

उधर जमींदार ने सोनम की तलाश शुरू कर दी , अब उसने राकेश को मारने का फैसला किया उनसे अपने लोग राकेश के घर भेज दिए ।

वहां जब कोई नहीं मिला तो उन्होंने राकेश की मा को बहुत मार  पर राकेश की मा किसी भी हद तक जाने को तैयार थी ।
अब जमींदार खुद आ गया उसने राकेश के घर को आग लगा दी ।

और खुद राकेश की तलाश में चला गया ।

जमींदार के लोगो की एक टुकड़ी ने राकेश को पकड़ लिए से उसे घसीट के घर लाने लगे । अब राकेश ने हतापाई शुरू कर दी ।

उन्होंने भी राकेश को मारना शुरू कर दिया अब एक ने चाकू निकला और राकेश पर हमला किया , तभी बीच में सोनम आ गईं ,, सोनम के पेट में चाकू लग गया , उसने शरीर लहूलुहान हो गया ।अब गुस्से में राकेश ने सभी को बुरी तरह से मार पिटाई की ।

राकेश ने सोनम को कहा में तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगा । और अब राकेश सोनम को उठा कर शहर की तरफ भागा । 

पर सोनम का बचना मुश्किल था , अब सोनम ने कहा मुझे सिर्फ तुम्हारी बहो में मारना है , में नहीं बचूंगी ।

राकेश है एक पेड़ के नीचे बैठकर सोनम को अपनी बाहों में ले लिए , वह भी बेहोश ही रहा था ।

सोनम ने कहा मै तुमसे बहुत प्यार करती हूं , कोई बात नहीं की में तुम्हारी साथ नहीं रह सकती पर यह खुशी है कि तुम्हारी बाहों में मारूंगी ।
अब सोनम ने राकेश को एक किस करने को कहा , राकेश ने एक किस की तभी , सोनम मर गई ।

राकेश चिल्लाने लग गया रोने लग गया ।
 जमींदार भी आ गया उसने देखा कि उसकी बेटी मर चुकी है उसे बहुत गुस्सा आया उसने राकेश को भी मार डाला ।

और जंगल में ही एक गड्ढा कर के दोनों को एक ही गड्ढे में दफना दिया ।
इस तरह राकेश और सोनम का प्यार पूरा नहीं हो प्यार और समाज के नीचे दब गया ।
 

Love story in hindi : हमारी अधूरी कहानी 

राकेश और सोनम की प्यार की एक कहानी अधूरी रह गई ।
इस कहानी से हम यह सीख मिलती है कि प्रेम में हम कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहना चाहिए ।
समाज हमेशा प्रेम को ठुकराता आया है परंतु ,  प्यार करने वा लो को कभी भी अलग नहीं कर सकता ।

मुझे उम्मीद है कि आपको कहानी पसंद आई होगी कहानी को अधिक से अधिक शेयर करे । 
यदि आप कोई और प्यार की एक कहानी पढ़ना चाहते है तो कमेंट में लिखे ।

Kahaniya पढ़ने के लिए हमारे साथ बने से ब्लॉग में  आते रहे ।

Read also 

Comments

Popular posts from this blog

mastram ki kahaniya : moral stories in hindi : लालच

Hindi fairy tales : वरदान देने वाली परी : fairy tales in hindi

Top 10 moral story in hindi : panchatantra ki kahaniya : story