Crime story in hindi :-रिश्वत लेने जुर्म है

 यह crime story in hindi रिश्वत 

आज के ज़माने में सबी का एक आमदनी का साधन बन गया है ।जहाँ जाओ वहां पे लोग रिश्वतखोरी के आगोश में आ चुके है ।छोटी सी काम के लिये भी आजकल रिश्वत का उपयोग किया जाता है

story about a crime

एक दिन में आपने दोस्त को लेकर RTO ऑफिस में गया क्यो हम 18साल के हो गये है और हमे अपने लिए गाड़ीी चलने के लिए एक लाइसेंस की जरूरत थी । 


तो जब अपनी मोटरसाइकिल लेकर जा रहे थे तो हमे एक पॉलिस ने पकड़ लिया हमारे पास मोटरसाइकिल के सबी कागज थे परंतु हम लाइसेन्स बनानेे जा


 रहे थे इस लिि हमारेे पास लाइसेन्स नही था तो पॉलिस ने हमारा चालान काटा । जब पॉलिस वालेे ने हमे पर्ची दी तो उसे 200 लिखा था तो हमने उसे 200 दिये पर उसने हमसे 300 रुपये मांगे हम उसे 300 रुपये देकर आ गये 


अब हम RTO ऑफिस में आ गए थे तो जब हम अन्दर गए तो हमे एक फॉर्म पकड़ा दिया गया उसे भरकर लेने को कहा हमने उसे भर दिया और फिर गए तो उसपर अन्य कागज लगाने को कहा हमने उसपर अपने सभी जरूरी दस्तावेज लगा दिए तो उन्होंने कहा कि आप काल आएये कल आपका काम हो जाएगा ओर ऐसा कर कर के हमे एक हप्ता निकल गया ।


हम RTO ऑफिस के बाहर एक चाय की दुकान में गये वहां पे एक आदमी ने हमसे कहा तुम लोग रोज आते हो ऐसा क्या काम है । हमने कहा कि हमे लाइसेंस बनवाना है पर अभी तक कुछ नही हुआ वो बोला होगा भी नही ।हमने कहा तो फिर क्या करें तो वो बोला 3500 रुपये दो में दोनों का बनवा दूंगा जबकि 600 रुपये में ही हमारा काम हो सकता था


जब हमने उसे ऐसा बोल तो वो बोला कि हुया क्यो नही अभी तक। हमने उसे कहा ठीक है आप बनवा देना और उसे फॉर्म पकड़ा दिया और उसने कहा कि अब 


तुम एक महीने बाद आना । हमने ऐसा ही किया हम एक महीने बाद गये उनसे कहा तुम अंदर जाना ओर बस माउस पकड़ लेना क्योकि हमारा टेस्ट था । तो सारा काम अंडर बैठे कर्मचारी ने किया ।

गाड़ी चलाने का ऑनलाइन टेस्ट भी कर्मचारी ने खुद ही किया तब हमें पता चला कि सभी रिश्वत लेकर काम कर रहे है ।

वो रिश्वत लेते जा रहे है और हम देते जा रहे है पर कोई इसके खिलाफ आवाज नही उठता हम क्यों नही उठाते crime के खिलाफ आवाज


 क्योकि रिश्वत के दम पर काम जल्दी हो जाता है और ईमानदारी से काम देर से होता है । यदि हम रिश्वत नही देते तो हमारा काम लटक जाता है और हमे ऑफिस कर चक्र कटने पड़ते है ।

ओर यदि रिश्वत देते है और हम खुद ही crime को बढ़ावा दे रहे है ।

Conclusion

 दोस्तो रिश्वत नही लेनी चाहिए और न ही रिश्वत देनी चाहिए रिश्वत देकर हम खुद ही crimeको बढ़ावा दे रहे है ।।

Post a Comment

0 Comments