Story | Love story hindi | Breakup Dairy | allstory

 Story - Breakup story in hindi  ब्रेकअप का नाम सुनकर सभी सच्चा प्यार करने वालो कि रूह कांप उठती है । परंतु पता नहीं क्यों प्यार भारी इस दुनिया में भगवान ने ब्रेकअप नाम की चीज बना दी । आप यकीन नहीं  मानेंगे कि कभी कभी किसी इंसान के लिए ब्रेकअप के सदमे से बाहर निकलना कितना मुश्किल होता है । ओर यदि वह कोई लड़का हो तो स्थिति ओर भी बिगड़ जाती है । मै खुद एक लड़का हूं ओर मुझे पता है कि ब्रेकअप से बाहर निकलना हम लड़को के लिए कितना मुश्किल होता है । मै नहीं जानता कि  सभी लड़को के लिए होता है या नहीं परंतु मेरे लिए ब्रेकअप से बाहर निकलना बहुत ही मुश्किल हो गया था । आखिर मेरे प्यार आठ साल पुराना था , तो आप सोच ही सकते हो कि केसे मै इस गम से उभर पाया हूं।  The Breakup Dairy - breakup story in hindi  मेरे प्यार की कहानी की कहानी को आठ साल हो चुके थे , हम दोनों ने बहुत सारे सपने बुन लिए थे कि हम दोनों जिंदगी भर एक दूसरे के साथ रहेंगे ओर अब हमारी शादी का प्लान था । परंतु यह ब्रेकअप नाम का साया मेरे रिलेशनशिप को ले डूबा । मैने कभी ब्रेकअप के बारे में नहीं सोचा था ओर ना ही कभी सोचूंगा ओर अब

Love story | क्या यह ही प्यार है ? | Hindi love story | Hindi story

Love story | क्या यह ही प्यार है ? | Hindi love story | Hindi story

प्यार यह ढाई अक्षर ही हमरे जिंदगी की बनाने ओर बर्बाद करने  के लिए बहुत है ।
पर छोटी उम्र में हमे इतनी समझ कहा होती है कि हम प्यार की बातो को समझ सके ओर वह के सके जो सही है ।

में आज आपको अपनी कहानी बताने जा रहा हूं , जिसमे में आपकी बताऊंगा की केसे मेरे नज़रों के सामने मैने अपना सब कुछ खो दिया ।

Hindi love story - Hindi Story 

में करीब १७ साल का था जब मुझे एक लड़की से प्यार हो गया था । में उस लड़की को करीब ५ साल पहले से जानता हूं पर अब मुझे उससे प्यार हो गया ।

मै ओर वह ४ का से दोस्त थे ओर हम खुश भी थे , ओर बाद में हमारी दोस्ती प्यार में बदल गई। 
शायद भगवान की भी यह ही मंजूर था ।

परंतु जैसे ही दोस्ती प्यार में बदली तो हमारा प्यार भी झगड़ों में बदल गया । मै भी नहीं जानता कि कौन सही था ओर को ग़लत पर शायद मैने ही उसपर अपनी मर्जी थोपनी चाह ।

चलिए कहानी शुरू करते है ।

मुझे १७ साल की उम्र में अपनी ही एक दोस्त से प्यार हो गया  था मैने भी समय मिलते ही बिना कुछ सोचे समझे उस बता दिया ।

उस दिन तो वह मुझसे नाराज़ हो गई परंतु दो तीन दिन जब मैने उसे फिर मनाया तो वह मान गई ।
जब उसने  मेरे प्यार को स्वीकार किया तो मुझे ऐसा लगा जैसे मुझे जिंदगी की सारी खुशी मिल गईं हो ।

में रोज सुबह उठ कर उसे कॉल करता दिन भर हम दोनों आपस में कॉल ओर बाते करते सारी छोटी ब डी बाते आपस में शेयर करते थे ।

कभी कभी में उससे मिलने भी जाया करता हम घंटो साथ में बैठ कर खूब बाते करते थे ।

यकीन मानिए वह प्यार का अहसास इतनी ताजगी भरा होता है कि इंसान को अपने भीतर एक अलग ही ऊर्जा का एहसास होता है ।

वह मुझसे मिल कर बहुत खुश होती मुझसे खूब बाते करती ओर मेरे कंधे पर सिर रख कर मुझसे कहती थी कि , हम भी अलग नहीं होंगे। ओर साथ में कहती कि में तुम्हे कभी नहीं भूल सकती ।

यह बात सुन कर में फूल नहीं समाता था ।
पर धीरे धीरे हमारे प्यार को किसी तीसरे कि नजर लग गई ।
आपको पता ही होगा कि कई मनचले लड़के लड़कियों को सोशल मीडिया ओर रिक्वेस्ट भेज कर उनसे दोस्ती करने की कोशिश करते है ।

बस ऐसे ही एक लड़के सोशल मीडिया ओर मेरी प्रेमिका के फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। 
ओर इसमें सबसे बुरी बात यह हुई कि  मेरी प्रेमिका ने वह रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली ।

कुछ दिन तो सब कुछ ठीक था परंतु उस लड़के ने फिर मेसेज करना शुरू किया ओर दोस्ती करनी शुरू की ओर अपनी बातो में फसा कर मेरी प्रेमिका से फोन नंबर ले लिया ।

मुझे यह बात बहुत बुरी लग गई की किसी अनजान शक्ष को इस प्रकार मोबाइल नंबर देना सही नहीं है ।
परंतु उसने कहा कि जान पहचान धीरे धीरे हो जाती है ।
अब फिर वह लड़का रोज रोज कॉल करने लगा में जब भी कॉल करता तो वह लड़का कॉल पर व्यस्त रहता ।

अब मैने फिर खात कि इतनी कॉल एक दोस्त की सही है क्या परंतु उसने मुझे यह कह कर चुप करा दिया कि मेरा दोस्त है ।

दोस्तो आप यकीन नहीं करेंगे जितना उस दिन बुरा लगा उतना  बुरा आज तक कभी नहीं लगा था ।

मेरा दिल टूट गया । अब जब भी में कॉल करता तो वह कॉल प्र व्यस्त रहता । मुझे यह समझ नहीं आया कि सिर्फ एक महीने पहले आए हुए लड़के के लिए मेरी प्रेमिका ने ऐसा किया ।
क्या यह सही है ?

दोस्त यदि आप यह सवाल मुझसे करते तो मेरा जवाब होता कि , प्यार पहले फिर दोस्ती , ओर एक महीने पहले दोस्त के लिए अपने प्यार को थोड़ी छोड़ दूंगा। 

पर मेरी प्रेमिका का जवाब कुछ ऐसा था जिससे मुझे बहुत बुरा लगा मेरे मन में शक का कीड़ा धीरे धीरे जगह बनाने लगा। 

मैने सब ठीक करने की बहुत कोशिश की परंतु वह मेरी कोई बात समझने को तैयार ही नहीं थी ।

अब उसने धीरे धीरे मेरे कॉल को रिसीव करना ही बंद कर दिया ।
अब मेरा दिल पूर टूट गया । परंतु जब मुझे उसकी कही बते याद आती तो में उस कॉल कर के बात को समझने की कोशिश
करता परंतु वह बिल्कुल मना कर देती ।
करीब १ महीने तक मैने उसे बहुत मानने की कोशश की पर उसने मेरे बात को सुना ही नहीं ।ओर मुझे यह कह कर ब्लॉक कर दिया कि तुझे मुझसे प्रॉब्लम है तो निकाल जा ।

कुछ समय ऐसा लगा कि क्या यह सच में मुझसे प्यार करती थी ?
या फिर बस एक दिखावा था?
क्या किसी अनजान इंसान के लिए कोई अपने प्यार को छोड़ सकता है ?

अब रात दिन मेरे दिल ओर दिमाग में ये बाते घूम रही थीं । 
परंतु उसने मुझे एक बार भी कॉल नहीं किया उसके ब्लॉक कर देने के बाद भी में उस रोज कॉल करने की कोशिश करता हूं ।पर वह अपने नए दोस्त के साथ खुश है ।

परंतु दोस्तो मेरे बस ये सवाल है की दोस्तो का मैने कुछ ग़लत किया ? 
दोस्तो जो उसने मेरे साथ किया क्या वह सही है ?

दोस्तो यदि आपको कहानी पसंद आई हो तो कहानी को शेयर जरुर करे ।
ओर दोस्तो यदि आप मुझे कुछ सुझाव देना चाहते है तो कमेंट में जरूर बताए। 
ओर कृपया जरूर बताए की हम दोनों में गलत कोन था ? 
सवाल का जबाज कमेंट में  जरूर दे ।
ओर इसी ही hindi story , ओर hindi love story पढ़ने के लिए हमारे साथ बने रहे ।




Comments

Popular posts from this blog

mastram ki kahaniya : moral stories in hindi : लालच

Hindi fairy tales : वरदान देने वाली परी : fairy tales in hindi

Top 10 moral story in hindi : panchatantra ki kahaniya : story