Republic Day Essay 2021 गणतंत्र दिवस पर निबंध | allstory

 26 जनवरी : गणतंत्र दिवस पर निबंध | Essay on Republic Day in Hindi 

भारत वर्ष  में सामाजिक एवं राष्ट्रीय दो प्रकार के पर्व मनाए जाते है । 

सामाजिक पर्वो के अन्तर्गत आती है - होली , दीपावली , विजयदशमी , इर्द , क्रिसमस , गुरुपर्व , आदि का अपना विशिष्ठ महत्व है। 

धार्मिक सास्कृती आदि विभिन्न दृष्टकोणों से ये पर्व , भारतीय जनमानस के लिए प्रेरणा का एक प्रमुख स्रोत है ।

दूसरी ओर वे राष्ट्रीय पर्व है जो राष्ट्रीय दृष्टिकणों से देश के सभी वर्गो , संप्रदायों अथवा जातियों के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण रहे है । गणतत्र दिवस , स्वतंत्रत दिवस , गांधी जयंती , चिल्ड्रन day  कुछ राष्ट्रीय पर्वो में से एक है। 


हम बात कर रहे है , राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस की ।

गणतंत्र दिवस (republic day  ) 26जनवरी को मनाया जाता गए । 

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाने का एक ख़ास वजह है । 26जनवरी 1950  को  हमारा संविधान लागू हुआ था इसी वजह से आज तक 26जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है ।

हमारे इस निबंध में आपको इन इन सवालों का जवाब मिलेगा ।

गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है ?

गणतंत्र दिवस क्या है ?

गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण को करता है ?

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में ।

गणतंत्र दिवस मनाए जाने का ऐतिहासिक कारण ?


गणतंत्र दिवस पर निबंध | Essay on Republic Day in Hindi 

Republic day essay ,Republic Day Essay 2021, गणतंत्र दिवस पर निबंध | a


गणतंत्र दिवस मनाए जाने का ऐतिहासिक कारण -
15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता  मिलने से पहले कई सौ वर्षों तक भारतीयों ने अंग्रेजो के अधीन नरक जैसे दास पूर्ण जीवन बिताया । देश को पराधीनता से मुक्त करने के लिए भारतीयों को दीर्घकाल तक संघर्ष करना पड़ा ।
भारत का संपूर्ण स्वाधीनता आंदोलन , त्याग , बलिदान , वेदना ,घुटन। ओर अंग्रेजो के दिल दहला देने वाले अत्याचार की एक करुण गाथा है ।

स्वाधीनता प्राप्ति के लिए अनेक ऐतहासिक प्रयासों के अन्तर्गत26जनवरी 1929 का दिन का अपना विशिष्ट महत्व है । इसी  दिन  भारतीयों  राष्ट्रीय कांग्रेस की महासभा ने लाहौर में रावी नदी के पावन तट पर यह घोषणा की कि आज से पूर्ण स्वराज्य प्राप्ति करना ही भारतवासियों का लक्ष्य  होगा ।

लाहौर के इस अधिवेशन में रावी ने देशभर से आयि आजादी के दीवानों का सेलाभ उमड़ पड़ा था ।

दूर दूर से कई दिनों तक पैदल चलकर आए , लाहौर की भयंकर शीत में कांपते परंतु देश को आजाद कराने के संकल्प कि दहकती आग को अपने मन में लिए उन अपार जन समूह ने  पंडित जवहरलाल नेहरू के नेतृत्व में देश को  हर हालत में स्वाधीन करवाने कि सौगंध खाई ।

इसी दिन से सारा  भारत , भारत माता की जय , ओर वन्द
 मातरम् , स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है  के गगनभेदी नारो से गूंजने लगा । प्रत्येक वर्ष 26जनवरी के पूर्ण दिन स्वराज्य की प्रतिज्ञा दोहराई जाती रही ।

विदेशी आक्रांताओं की लाठी गोली ओर तोप का सामना करते करते हुए  निहथी जानता वर्षों तक खून में नहाती रही , देश का चप्पा चप्पा शहीदों की  लाशों से पट गया ।

अंततः अंग्रेजो को भारत छोड़ कर जाना पड़ा । 
स्वधनिता  यज्ञ में अपनी अनगिनत आहुतियां देने के बाद 15अगस्त,1947 को  भारत आजाद कर दिया गया ।

स्वतंत्रता प्राप्ति के उपरांत देश के सविधान का निर्माण हुआ ओर उस 26 जनवरी 1950 के दिन लागू किया गया ।

सही अर्थों में हम इसी दिन से पूर्ण रूप से स्वतंत्र हुए । क्योंकि इसी दिन भारत को एक पूर्ण ,  प्रभूत्व संपन  गणराज्य घोषित किया ।

इस प्रकार 26 जनवरी के दिंही हमने पूर्ण स्वराज्य का संकल्प लिया था । ओर 26 जनवरी के दिन ही हम पूर्ण रूप से  स्वतंत्र हुए ।
इन दो कारणों से ही हम हर साल गणतंत्र दिवस मनाएं जाते है ।

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 2021 -Republic Day 

गणतंत्र दिवस का महत्व 

गणतत्र दिवस का महत्व दो दृष्टियों से है । एक तो उन शहीदों कि पावन स्मृति के लिए जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपनी बली दे दी ।
और दूसरे इसीलिए कि इसी दिन भारत को पूर्ण स्वराज्य स्वाधीनता प्राप्ति हुई ।
।ना मालूम कितनी बहनों ने अपने भाइयों के मस्तक पर तिलक लगाकर उन्हें अपने प्रणो की आहुति देने के लिए अंतिम विदाई दी ।

ना मालूम कितनी भारतीय नारियों ने अपने अश्रुओं के सैलाब को थामकर , हसते हंसते अपने पतियों को अपनी आजादी की यज्ञ में होम कर दिया । तब जाकर कहीं हमें आजादी मिली ।

इसी आजादी के महत्व की स्मृति बनाए रखने के लिए ओर देश के लिए शहीदों हो गए बलिदानियों के प्राप्ति कृतज्ञता प्रकट करने के लिए ही यह पर्व प्रतिवर्ष हमारे देश में मनाया जाता है ।

Republic day - देशव्यापी आयोजन 

इस दिन सारे देश में हर्षल्लास का वातावरण रहत
 है।  स्थान स्थान पर प्रातः ही भारतीय तिरंगा फहराया जाता है । सजावट की जाती है , मिष्ठान वितरण होता है ।

ओर सास्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।  
देश की राजधानी दिल्ली में यह दिवस विशेष धूमधाम से मनाया जाता है  

कई दिनों पूर्व से ही देश के कोने कोने से लोगो का दिल्ली आना प्रारंभ हो जाता है । इस दिन सारी दिल्ली को दुल्हन की तरह सजाया जाता है ,।

प्रातः निर्धारण समय पर देश के राष्ट्रपति द्वारा इंडिया गेट पर ध्वजारोहण के साथ ही गणतंत्र उत्त्सव प्रारंभ हो जाता है ।

 जल थल ओर वायु सेना की टुकड़ियां राष्ट्रपति के सम्मान में २१ टोपो की सलामी देती है ।

इसके उपरांत आकाश में लाखो गुब्बारे ओर कबूतर छोड़े जाते है , राजपथ पर तीनों सेनाओं की परेड होती है ।

तथा वायु सेना के विमानों द्वारा आकाश से पुष्प वर्षा की जाती है ।
 विभिन्न प्रदेशों से अाई  झाकियां दर्शको का मन मोह लेती है ।

इस अवसर पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा देश की रक्षा हेतु शौर्य प्रदर्शन करने वाले  सैनिकों , बहादुरी का प्रदर्शन करने वाले  बालको और देश की प्रगति में अपना उल्लेनीय योगदान देने वाले व्यक्तियों को सम्मानित किया जाता है । 
सायकल देशभर की सरकारी एवं राष्ट्रीय इमारतों पर भव्य रोशनी की जाती है । 

स्थान स्थान पर  विभिन्न प्रकार के सांसकृतिक  कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है ।

Republic day  पर निबंध -। उपसंहार 

गणतंत्र दिवस हमारी राजनैतिक दृष्टि से प्राप्त पूर्ण स्वाधीनता और पूर्ण स्वराज के लिए किए गए बलिदानों का स्मृति पर्व है ।

हर्ष ओर करुणा , उत्साह वियोग , रुद्र आदि विभिन्न रसो का एक साथ संचार करने वाला पर्व है ।

इस दिन हम अपने बलिदानियों के प्रति अपने कृत्यगता  अर्पित करनी चाहिए और सम्मस्त क्षुद्रताओं का परित्याग करके देश की आजादी को बनाए रखने परस्पर भेदभाव  कि खाई को पाट देने ओर निस्वार्थ रूप से देश के लिए जीने मारने कि प्रतिज्ञा करनी चाहिए ।






गणतत्र दिवस पर भाषण । republic day speech in 1000 world


Republic Day Essay 2021 गणतंत्र दिवस पर निबंध | रिपब्लिक डे पर निबंध


मेरे प्यारे दोस्तो , शिक्षक ओर अभिभावक  गण आप सभी को मेरा प्रणाम ।
आज हम सभी यहां अपने देश के एक राष्ट्रीय पर्व  , गणतंत्र दिवस , republic day , के लिए  यहां एकत्रित हुए है ।

गणतत्र दिवस हम हर साल 26 जनवरी को मानते आ रहे होंगे , ओर हम सभी यह जानते भी है कि गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है ।

यदि आप नहीं जानते तो में आपका बताना चाहता हूं कि आज के दिन ,26जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान लागू हुआ था ।
इसी दिन हम अपने देश का कानून मिला था ओर हम पूरी तरह से अंग्रेजो के चंगुल से आजाद हुए थे ।

पहले आप सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुकामनाएं ,  हमारा देश 150 सालो से अंग्रेजो का गुलाम था ओर इसे आजाद करवाने के लिए हमारे देश के कई लोगो ने जान की बाजी लगा दी थी , आज का दिन उन सभी  शहीद लोगों को याद करने का दिन है जिन्हें हमारे देश की आजादी के लिए आपने प्राण न्योछावर कर दिए ।

आज का दिन हम सभी को यह सबक देता है कि हम अपने देश के लिए सदा  तत्तपर रहना चाहिए ।

आज हम इस देश में चेन कि सांस ले रहे है ये सब उन सभी शहीदों के बलिदान का ही फल है ।
अपने देश की सेवा करना ओर देश की रक्षा करना हम सभी का परम कर्तव्य होना चाहिए ।

ओर अंत में अपने वचनों कि विराम देता हूं ,मुझे अपनी बाते आपके सामने रखने का अवसर देने का धन्यवाद ।
जय हिन्द , जय भारत 
वन्देमातरम , भारत माता की जय ।


मुझे उम्मीद है कि आपको आपके सवालों का जवाब मिल गया होगा। 
निबंध को अपने साथियों के साथ भी शेयर करे ।









Post a Comment

0 Comments