Best Love story in hindi - Famus lover

जिंदगी हर इंसान को एक दूसरा मौका जरूर देती है । वह मौका होता है अपनी पुरानी गलती से सीख कर कुछ नया करने का , या फिर अपनी गलतियों को याद कर कर के अपने आने वाले भविष्य को खराब करने का  ।

World fames love stories, best love stories in hindi, love story



इतिहास खुद  को बार बार दोहराता गए शायद जिंदगी यह देखना चाहती हो कि  क्या हमने अपनी गलतियों से कुछ सीखा है या नहीं ।

बनाना या बिगाड़ना दोनो आपके हाथ में है । मुझे भी जिंदगी ने एक ऐसा ही मौका दिया है परंतु में क्या करूंगा ये आपको आगे कहानी में पता चलेगा ।


Best Love story in hindi - famous lover

लोग कहते है कि दो  प्यार करने वाले कभी एक नहीं हो सकते। 
इतिहास गवाह है कि जब भी दो प्यार करने वाले मिले है तो कभी दुनिया की वजह से तो कभी हालातो की वजह से अलग हुए है ।

पर मेरा आपसे यह सवाल है कि लोगो के बोलने पर अपने अपना प्यार कैसे छोड़ दिया ? 

ऐसी क्या हालत हो गए की प्यार को छोड़ना पड़ा ?
क्या अब आप दोबारा किसी से प्यार नहीं करोगे क्या ? 
 जब किसी ओर से भी प्यार करना था तो पहले वालो को क्यों छोड़ दिया ? 

दोस्तो अगर आपके पास इन  सवालों  का जवाब है तो मुझे जरूर बताना  , क्योंकि में जरूर जानना चाहता हूं कि ऐसा क्यों होता है ।

मेरी लाइफ भी एक ऐसे ही मोड़ ओर है जब मेरा प्यार मुझे छोड़ कर चला गया , वह मुझे छोड़ के क्यों गया इसका जवाब मेरे पास भी नहीं है ।

तीन साल पहले - सपनों का शहर मुम्बई 
राघव  ने मुंबई में  अपनी MBA की पढ़ाई कर रहा था , बडा ही बुद्धिमान ओर हैंडसम लडके ।

जिसे देखते ही लड़कियों कि लाइन लग जाती हर कोई राघव से दोस्ती करना चाहता था , परंतु राघव को यह सब पसंद नहीं था। 
दूसरी तरफ सोनम , खूबसूरत , खुशमिजाज ओर थोड़े खुली सोच वाली किसी से भी दोस्ती कर देना ।
जिंदगी से बेफिक्र लड़की ।

किसी को नहीं पता था कि राघव जैसे लड़को को सोनम से प्यार होगा। 
तो चलिए अब प्यार केसे हुए यह भी बता देते है ।
अगर आप लड़की हो तो किसी लडके को इंप्रेस करने के लिए इसे बस एक स्माइल देना ही काफी है परंतु यदि वह लड़का राघव  जैसा हो तो स्माइल के साथ कई पापड़ बेलने पड़ सकते है ।

सोनम भी राघव को देख कर बहुत इंप्रेस हो गई अब वह चाहती थी कि राघव से दोस्ती की जाए ।
राघव किसी सिर्फ अपनी लाइफ से मतलब था अब उसकी लाइफ में सोनम की एंट्री होने वाली थी ।

सोनम की मुलाकात राघव से हुई कॉलेज के केंटीन मै , राघव अपनी एक बेंच पर बैठ के वडा पाव खा रहा था , तभी सोनम सामने  वाली सीट पर आ गई ।

सोनम ने कहा , हेल्लो 
राघव -हेल्लो 

सोनम - वडा पाव , टेस्टी है ओर हेल्थ के लिए खराब हो सकत है ये को घर के परांठे खाओ , तुम्हे अच्छा लगेगा ।

राघव - ओर तुम क्या खाओगी 
सोनम - वडा पाव छीनते हुए , कभी कभी यह भी कहा लेना चाहिए में भी तो काफी मोटी हो रही थी ।

अब दोनो स्माइल करते गए बस ।
दोस्तो यकीन मानी अगर आप किसी लड़के से दोस्ती करना चाहते है तो यकीन मानो बस इतना बहुत है , लड़का एक दिन में ही आपके पीछे पागल हो जाएगा ।

अब अगर ऐसा नहीं हो रहा तो इसका मतलब वह लड़का आप से झूठ बोल रहा है ।
अब राघव ओर सोनम की दोस्ती तो हो हि गई थी , कई लड़कियां चाहती थी कि राघव उनका दोस्त
बने पर सोनम   के आ जाने से सभी का पत्ता कट गया ।


अब हर प्यार की शुरवात दोस्ती से ही होती है ,राघव ओर सोनम के प्यार की शुरुआत भी होने ही वाली थी ।


कॉलेज में एक साथ घूमना , कॉलेज के बाद मूवी , जाना पार्क जाना घंटो बाते करना शॉपिंग करना ये सब दोनो का रूटीन बन चुका था  ।

सोनम के पिताजी एक बड़े बिजनेस मेन थे तो बहुत पैसा होने कि वजह से घमंड भी उतना ही ज्यादा था ।

सोनल एक दिन राघव को अपने घर घूमने ले गई ।अभी दोनो में प्यार नहीं हुआ था , राघव जस्ट फ्रेंड बन के ही सोनम के घर गया ।

कॉफी पी पूरा घर घुमा , सोनम की  बचपन कि प्यारी सी तस्वीर देखी , हसा  फैमिली फोटो देखी अब सोनम के पिताजी घर आ गए ।

सोनम - पिताजी यह मेरा दोस्त राघव 
राघव - हेल्लो  सर 
पिताजी - हेल्लो बेटे बैठो , घूरते हुए ।
 
सोनम - पिताजी राघव कॉलेज का टॉपर गए ओर mba को पढ़ाई कर रहा है  ।
पिताजी - अच्छा अच्छा बेटा , ओर तुम क्या के रही हो तुम्हारा नहीं तो mba कंप्लीट होने वाला है 

ऐसा बोल के पिताजी राघव को इग्नोर करते है ।
राघव समझ गया को सोनम के पिताजी उसके बारे में क्या सोच रहे है ।
 सोनम काफी लेने किचन में जाती है ,
पिताजी - अच्छा बेटा आगे का क्या प्लान है ।
राघव - सर अभी तो mba कंप्लीट करना है फिर किसी मल्टीनेशनल कंपनियां में जॉब ओर सेटेल ।

पिताजी - अच्छा जॉब का क्या करोगे मेरी बेटी से शादी करके मेरी प्रॉपर्टी के मालिक बन जाओ , तुम जैसे सारे लडके ऐसा ही करते है तुम भी कर लो दोस्ती तो तुमने कर ही ली है अब प्यार के जाल में फसा लो ओर कर को शादी , सेल्फ रिस्पेक्ट नाम की तो कोई चीज ही नहीं है ।

अब राघव थोड़ा गुस्से मै आ जाता है ओर चलता हूं बोल के बाहर आ जाता गए , जो कुछ भी सोनम के पिताजी ने कहा यह सब सोनम ने भी सुना उसने तुरंत कॉफी टेबल पर रखी ओर राघव के पीछे पीछे घर से बाहर आ गई ।

राघव बहुत गुस्से में था , सोनम ने उसे रोकते हुए कहा राघव यार तुम मेरे दोस्त हो इसे कैसे पापा की बातो का बुरा मांन सकते हो ।

यकीन मानो यदि दोस्तो आप कितना भी   पैसा काम लो लाइफ सेट कर लो , परंतु किसी भी लड़की के पिता नी नजरो में तुम सिर्फ एक लोफर हो ।

भले ही तुम दुनिया कि सारी खुशी उनकी बेटी को दे सकते हो , पर उसके बाप की नजरो में एक लोफर जिसने उनकी बेटी को अपने जाल में फसा लिया है ।

अब उनको पिताजी उनके लिए तुमसे अमीर लड़का ढूंढ लेने के  चक्कर में अपनी बेटियो को ऐसे लोगो के हाथ सौंप देते है  जहां उनकी बेटियों को दर्द के सिवाय कुछ नहीं ओर उन्हें हालातो से सौदा करना पड़ता है ।

जब राघव अपने घर आया तो सोनम भी उसके पीछे  उसके घर आ गई ।
राघव के घर पर कोई नहीं रहता उसका परिवार किसी ओर शहर में रहता  है ।

सोनम घर आती है ओर बोलती है क्यों  दोस्त को चाय पानी नहीं पिलाओगे क्या ? 

राघव थोड़े मुस्कराते हुए किचन में जाता है ओर चाय बनता है , सोनम राघव के घर में घूमती है उसके बेडरूम में जाती है।

राघव के बेडरूम के टेबल पर एक लव फ्रेम के अंदर  एक लड़की की फोटो है , वह कोन है यह जिज्ञासा सोनम के अंदर आ गई ।

अब तुरंत फोटो   को उठती है ओर राघव के किचन जाती है ओर पूछती है कि राघव यह लड़की कोन है ।

तस्वीर देख के राघव के चेहरे पर एक अलग उदासी आ जाती है , वह चाय लेके बाहर सोफे पर आ जाता है ओर  चाय पीता है ।

सोनम फिर पूछती है कि प्लीज राघव मुझे बताओ कि यह लड़की कोन है ।

राघव की आंखो में आंसू थे , सोनम राघव का हाथ पकड़ते हुए फिर पूछ लेती है ।

आज से भी २ साल पहले  , स्कूल  के दिनों में राघव भी एक खुशमिजाज लड़का था  , उसके भी कई दोस्त थे एक प्यार  करने वाली प्रेमिका  पूनम थी ।
ओर वह तस्वीर भी पूनम की थी ।
पूनम की शादी हो चुकी थी परंतु राघव आज भी उस बहुत प्यार करता है ।
 पूनम ने राघव से कई प्रॉमिस किए थे पर सब झूट , इसी वजह से राघव का प्यार से विश्वाश टूट गया ।
 अब सोनम ने फिर पूछ की मुझे बताओ कि ऐसा क्या हुए था। 

राघव ने कहा कि हम दोनों बहुत सालो से साथ में थे बाद में अचानक उसे मेरी हर बात पर गुस्सा आने लगा  , मैने बहुत कोशिश की। कि उससे पूरी बात जान लू परंतु पूनम ने कभी कोई बात पूरी नहीं बताई ।

मै बस इतना कहता रह गया कि मुझसे बाते करो मुझसे लड़ाई मत करो पर पूनम  ने मुझे छोड़ दिया ।

दोस्तो ,मैने कहानी कि शुरवात में ही एक सवाल पूछा था कि ऐसी क्या मजबूरी थी कि प्यार को छोड़ना पड़ा ? 

यह ही बात राघव ओर पूंनम के रिलेशनशिप में हुई  , पूनम ने कभी राघव को पूरी बात नहीं बताई  , उसे बिना बात के छोड़ दिया ओर किसी ओर के साथ रिलेशनशिप में आ गई ।

जब दूसरे के साथ रिलेशनशिप में ही जाना था तो पहले को क्यों छोड़ा ? ।

दोस्तो प्यार एक एहसास है ,  प्यार में पड़ा इंसान अपने प्रेमी से अलग होने में डरता है परंतु बाद में प्यार को क्या हो जाता है  ।

जो प्रॉमिस रिलेशनशिप के शुरुवात में किया उन्हें बाद में तोड़ते क्यो है ।

जब सोनम ने राघव की कहानी सुनी तो वह भी बहुत रोने लगी  ।
अब सोनम ने राघव को गले से लगा लिया दोनो रोने लगे ।
सोनम ने राघव के आसुओ को साफ किया ओर राघव के सिर में चूमा ओर कहा , राघव में तुम्हे कोई प्रॉमिस नहीं करुंगी ।

परंतु मै तुमसे बहुत प्यार करती हूं , मैने सोचा था कि तुम्हे कभी अच्छे  टाइम पर मूड के साथ बताऊंगी , पर सोचा नहीं था कि तुम्हारा प्यार से ही विश्वाश उठ गया है ।

प्लीज अगर मेरी बात सच्ची लगे तो मेरे घर आना ओर शादी की बात करना में तुम्हारा इंतजार करूंगी ओर बस इतना कह के सोनम भी अपने घर चली जाती है ।

अब इतिहास  खुद को फिर से वापिस दोहरा रहा था ।
अपनी जिंदगी जैसे चल रही है उसे वैसे चलने का ओर उसे ओर भी बेहतर   बनाने का वह एक मौका राघव के पास था ।

अब राघव ने जी जान से mba में पूरे कॉलेज ने टॉप किया ओर एक अच्छी मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब पर लग गया ।
सोनम ने भी mba किया था पर उसने अपने ही कंपनी को संभालना शुरू किया ।

जब सब सेटल हो गया अब राघव सोनम के घर गया , सोनम राघव को देख कर बहुत खुश हुई ओर राघव को आते ही गले लगा लिया ।
सोनम के पिताजी को गुस्सा तो आया पर बेटी के प्यार के सामने उन्हें झुकना पड़ा , अब सोनम ओर राघव से शादी कर ली ओर दोनो प्यार से अपनी जिंदगी बिता रहे है ।
 

Moral of the story - प्यार की एक कहानी 



जिंदगी में मौका हर किसी को मिलता है बस कोई उस मौके का इस्तेमाल करता है तो कोई नहीं करता। 

मुझे उम्मीद है कि आपकी कहानी पसंद आई होगी ।
कहानी को अधिक से अधिक शेयर करे ।

Read also -







Post a Comment

0 Comments